Friday, December 31, 2010

a new year thought

एक नया दोअर अब आयेंगा
एक नयें किरण जगयिएन्गा
काली रात के इस अन्धेरें को
अब एक नयी सुबह मैं बदल कर दिखायेंगा
ईशवर कारें य  नया साल अब पुरानें
सोच को मिटा कर
अब एक नया सुन्हेरा ख़्वाब जगायेएंगा
 
   अमीन्न्न 

2 comments: